///

12 साल की बच्ची ने एक फेफड़े के साथ हराया कोरोना को,देखिए बच्ची के हौसले की ये कहानी

इंदौर। जब इरादे मजबुत होना तो फिर किसी भी चीज से जीतना बड़ी बात नही होती है। इंदौर में 12 साल की मासूम बच्ची के हौंसले ने उसे एक फेफड़े के साथ जिंदा रखा है। उसके मजबूत इरादों ने कोरोना जैसी गंभीर महामारी पर विजय हासिल की। मासूम बच्ची ने अपने 40 प्रतिशत लंग्स के साथ अपनी मजबूत इच्छा शक्ति, हौसले और दृढ़ आत्मविश्वास के बदौलत कोरोना जैसी घातक महामारी पर विजय हासिल की ।

इंदौर की 12 साल की सिमी दत्त के पास एक ही फेफड़ा है। जन्म से ही उसका एक हाथ नहीं है। जिंदा रहने के लिए वह हर रोज एक-एक सांस के लिए लड़ती है। 4 साल से हर रात उसे ऑक्सीजन लगती है, लेकिन उसके हौसले के आगे कोरोना भी हार गया। एक समय उसका ऑक्सीजन लेवल 50 प्रतिशत पर पहुंच गया था, लेकिन उसने हार नहीं मानी। 2009 में सिमी का जन्म हुआ, तो परिवार में मायूसी छा गई। उसका बायां हाथ नहीं था। रीढ़ की हड्‌डी फ्यूज थी और किडनी भी अविकसित थी। 8 साल बाद एक फेफड़ा भी पूरी तरह सिकुड़ गया था। फेफड़ा सिकुड़ने की वजह से ऑक्सीजन लेवल 60 तक पहुंच जाता है। उसे हर रोज रात में ऑक्सीजन लगाई जाती है।

घर में ही ऑक्सीजन लगाया

जब कोरोना संक्रमण फैला तो माता-पिता ने उसका बहुत ध्यान रखा। फिर भी कुछ दिन बाद सिमी भी संक्रमित हो गई। इस दौरान परिवार ने डॉक्टर से परामर्श किया। घर में ही उसे ऑक्सीजन लगाई। कई दिनों तक वह इसी स्थिति में रही। उसने हौसला नहीं हारा और 12 दिन बाद कोरोना से भी जंग जीत ली। फिर उसने डॉक्टर के बताए अनुसार एक्सरसाइज भी शुरू की।

रोजाना सोते वक्त ऑक्सीजन लेवल 50 से नीचे पहुंच जाता है

पिता ने बताया कि बच्ची दूसरे बच्चों से अलग है औसतन 50% के आसपास ही उसका ऑक्सीजन लेवल रहता है, कभी-कभी 70 तक पहुँचता है लेकिन रोजाना सोते वक्त ऑक्सीजन लेवल 50 से नीचे पहुंच जाता है। उसकी कभी-कभी यादाश्त भी चली जाती थी, इसके बावजूद बच्ची में जिंदगी जीने की एक ललक है बीमारी को बीमारी नहीं समझती है।

मासूम ने दूसरे बच्चों को संदेश दिया

एक मासूम ने दूसरे बच्चों को संदेश देते हुए कहा कि जिन बच्चों को को कोविड होता है उनको 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन होना चाहिए, स्टीम लेना चाहिए और डॉक्टरों की सलाह जरूर लेना चाहिए। कुछ लोग जिनको कोविड-19 से डर लगता है, उन्हें कोविड वैक्सीन जरूर लगवाना चाहिए। मेरी मम्मी पापा और सिस्टर ने लगवा लिया है, उनको 2 दिन बुखार आया और बुखार तो आएगा डरने की जरूरत नहीं है। सभी को वैक्सीन लगवाना चाहिए ।