///

मुंबई में बाप ने किया नाबालिग बेटी से दुष्कर्म, उज्जैन में मामला दर्ज

लॉकडाउन के दौरान किया था दुष्कर्म, मां ने कराया मामला दर्ज।

उज्जैन। उज्जैन में हैवानियत की हद पार कर देने का मामला सामने आया है। दरअसल एक उच्च शिक्षित बाप के द्वारा लॉक डाउन में अपनी ही नाबालिग बेटी को हवस का शिकार बना डाला और रिश्तों की मर्यादा को तार तार कर दिया। सोमवार को मामले में नाबालिग ने अपनी मां के साथ एसपी कार्यालय और महिला थाने आकर लिखित शिकायत की।

मल्टीनेशनल कम्पनी में वाइस प्रेसीडेंट है पिता

दरअसल मामले का खुलासा तब हुआ जब उज्जैन के विवेकानंद कॉलोनी में पिछले तीन महीने से अपने पिता के घर रह रही महिला ने मुंबई में एक मल्टीनेशनल कम्पनी में वाइस प्रेसीडेंट के पद पर कार्यरत पति का फोन आने पर वापस मुंबई जाने की तैयारी शुरू कर दी। पर वह उस वक्त हैरान रह गई जब उनकी साढ़े 14 साल की नाबालिग बेटी ने मुंबई पिता के पास जाने से मना कर दिया। ऐसे में जब रीना ने बेटी आयुषी से प्यार से मुंबई पापा के पास न जाने का कारण पूछा और आयुषी ने उन्हें जो कहानी बताई उसे सुनकर रीना के भी पैरों के तले से जमीन खिसक गई।

नाबालिग बेटी ने कराई शिकायत दर्ज

महिला के मुताबिक कुछ देर तक तो उसे समझ ही नहीं आया कि वह क्या करे। पर बाद में वह अपनी नाबालिग बेटी को लेकर पुलिस के पास गई और पति के खिलाफ लिखित शिकायत की। नाबालिग द्वारा अपनी माँ के साथ एसपी कार्यालय और महिला थाने आकर की गई लिखित शिकायत के मुताबिक लॉकडाउन के दौरान उसके पापा ने उसका कई बार शारीरिक शोषण किया। पहली बार 12 जून को जब उसकी माँ की तबीयत खराब थी तब रात में पापा उसके कमरे में आये और उसके साथ अश्लील और गंदा कृत्य किया। इस दौरान जब उसने विरोध की कोशिश की तो उन्होंने किचन का चाकू उसके गले पर रखकर जान से मारने और फ्लैट से नीचे फेंकने की धमकी दी। जिससे वह बुरी तरह डर गई।

पिता को है शराब पीने की लत

इसके बाद वह आये दिन तीन महीने तक उसके साथ इस तरह की हरकतें करते रहे। 17 सितंबर को वह उज्जैन से लेने गए नाना और मम्मी के साथ नाना के घर उज्जैन आ गई। पीड़ित की माँ रीना के मुताबिक उसके पति को शराब पीने की बुरी लत है। 2004 में उसकी उनके साथ शादी हुई थी। तभी से वह आये दिन शराब पीकर उसके साथ मारपीट करते थे और नाबालिग बेटी को भी प्रताड़ित कर रहे। उसने इसकी मुंबई में पुलिस को शिकायत भी कर रखी है पर हर बार उसके पति माफी मांग लेते हैं। मैं भी उन्हें हर बार इसलिए माफ करती रही कि चलो सुधर जाएंगे लेकिन उन्होंने मासूम बेटी के साथ जो हरकत की है वह अक्षम्य है इसलिये बेटी के साथ उज्जैन एसपी कार्यालय और महिला थाने आकर शिकायत की है।