///

मध्य प्रदेश के इस मंत्री पर लगा दबंगई का आरोप, सफाई में कही यह बात

कैबिनेट मंत्री उषा ठाकुर पर जप्त सामान छुड़वाने का आरोप है।

इंदौर। वन विभाग की शिकायत के मामले में कैबिनेट मंत्री उषा ठाकुर ने एक बयान जारी कर पूरे मामले की निस्पक्ष जांच की मांग की है। वन विभाग ने कैबिनेट मंत्री उषा ठाकुर सहित 20 अन्य लोगों के खिलाफ अपराधिक मामला दर्ज करने की शिकायत का आवेदन प्रस्तुत किया था।

वन विभाग ने दर्ज करवाई शिकायत

गौरतलब है महू वन क्षेत्र में बडगोंडा में कुछ लोगों के द्वारा वन क्षेत्र की भूमि पर खुदाई करते हुए अवैध मोरम निकाली जा रही थी और रास्ता बनाया जा रहा था। वन विभाग ने 10 जनवरी को कार्रवाई करते हुए जेसीबी मशीन सहित एक ट्रैक्टर और एक बगैर नंबर की ट्राली को जप्त किया था और जप्त सामान को बडगोंडा परिसर में रखा था, लेकिन मंत्री उषा ठाकुर 20 से 25 लोगों के साथ बडगोंडा परिसर में आई और जप्त किए गए वाहनों को अपने साथ ले गई। वहीं इस मामले में डिप्टी रेंजर का कहना है कि पूरा मामला मंत्री से जुड़ा होने कि वजह से पुलिस ने अभी तक मामले का संज्ञान नहीं लिया है।

ट्विटर पर बयां किया दर्द

इन्हीं सब बातों से आहत होकर डिप्टी रेंजर ने एक अपने बेटे के ट्विटर से प्रधानमंत्री गृह मंत्री और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अपनी पीड़ा बताई। वहीं पूरे मामले को लेकर कैबिनेट मंत्री उषा ठाकुर द्वारा भी सोशल मीडिया पर एक बयान जारी किया है। जिसमें उन्होंने कहा है कि जिस रोड पर जमीन बनाई जा रही थी वह निजी है और जनहित में सड़क निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने वन विभाग मंत्री से पूरे मामले की जांच की बात भी कही है।