////

आरटीओ पर धोखाधड़ी के आरोपियों का कब्जा, जाने कैसे चल रहा है बेईमानी का खेल

इंदौर आरटीओ में बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी का खेल चल रहा है।

इंदौर। इंदौर का आरटीओ कार्यालय दलालों और एवजियों का अड्डा बन गया है, जिसे लेकर जिम्मेदार महज मामले को टालते नजर आ रहे है। आज हम फिर से एक बड़ा खुलासा कर ये बता रहे है कि आरटीओ कार्यालय पर दलालों और एवजियो की चांदी है। अब सवाल ये उठ रहे है कि जिम्मेदार क्यों ऐसे लोगो पर कार्रवाई नही करते है।

इंदौर आरटीओ का एक और बड़ा खुलासा

हाली ही में हमारी पड़ताल में एक बड़ा खुलासा हुआ था उसके बावजूद जिम्मेदार मौन है जो अब कार्यप्रणाली पर सवाल उठाने के लिए काफी है। बता दें कि आरटीओ में आज वो अपराधी वापस ग्रेड 3 की अफसरों की कुर्सियों पर बैठे हुए थे, जो कुछ समय पहले लोगों को फर्जी मार्कशीट के आधार पर लायसेंस व फर्जी दस्तावेज तैयार करने के मामले जेल तक जा चुके है।

धोखाधड़ी के आरोपी दोबारा एवजी के तौर पर विराजमान

जानकारी के मुताबिक 14 ऐसे एवजी थे जो फर्जी मार्कशीट सहित अन्य दस्तावेज तैयार करवाकर लोगों को फर्जी लायसेंस सहित अन्य दस्तावेज मुहैया कराते थे। आज जब हम आरटीओ के अलग अलग दफ्तरो में पहुंचे थे। कैमरा देखकर एवजी भाग खड़े हुए और जिन कुर्सियों पर वो बैठे थे उनके असली हकदारों से जब बात की गई तो वो मामला टालते नजर आए। वही जब बड़े अधिकारियों से इस मामले में जानकारी ली गई तो वो माकूल जबाव देने से बचते नजर आए।

जिम्मेदार जवाब देने के लिए नहीं हैं तैयार

फिलहाल, आरटीओ में अपराधियों का अड्डा बन चुका है जो मनमर्जी करते है लेकिन जिम्मेदार मौन है। जिसका मतलब साफ है कि इस मामले में जिम्मेदारो का भी कोई बड़ा फायदा होगा जो उन्हें एक्शन लेने से रोक रहा है।