////

अस्पताल की बिजली गुल होने से 3 की मौत

भोपाल। शुक्रवार रात हमीदिया अस्पताल में कोरोना यूनिट की बिजली गुल हो गई। ऐसे में इमरजेंसी बैकअप का सहारा लिया गया, लेकिन महज 10 मिनट में वह भी बंद हो गया। ऐसे में डेढ़ घंटे से ज्यादा समय तक कोरोना वार्डों की बिजली ठप रही और कोरोना वार्ड में भर्ती मरीजों की मशीनें बंद हो गई। जिससे अस्पताल में 3 लोगों की मौत हुई जिसपर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने प्रतिक्रिया देते हुए इसे बड़ी लापरवाही बताया है। इसके अलावा पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी मामले को लापरवाही बताते हुए सरकार पर निशाना साधा है।

हमीदिया अस्पताल में 5 बजाकर 58 मिनट पर लाइट चली गई। जिसके बाद जनरेटर का सहारा लिया गया लेकिन जनरेटर भी 10 मिनट के बाद बंद हो गया।जिसके बाद 3 लोगो को मौत हो गयी। घटना के बाद तत्काल प्रभाव से पीडब्ल्यूडी के इंजीनियर को निलंबित कर दिया गया। लेकिन कमलनाथ ने पुरे मामले पर सरकार को निशाना बनाया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा की भोपाल के शासकीय हमीदिया अस्पताल के कोरोना वार्ड की बिजली गुल, पॉवर बेकअप फैल, जनरेटर बंद, डीज़ल नहीं, यह कैसी स्वास्थ्य व्यवस्था ? तीन मरीज़ों की दुखद मौत…बेहद गंभीर लापरवाही, इसके दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो। प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएँ बेहाल, शहडोल में भी मासूम बच्चों की मौत का आँकड़ा 21 तक पहुँचा ? आख़िर सरकार कब नींद से जागेगी ? उधर पूरी घटना पर सीएम ने कहा है की उच्च स्तरीय जांच होगी और जो दोषी है उसपर कार्रवाई होगी। इसके अलावा चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग की प्रतिक्रिया भी सामने आई है उन्होंने कहा की यह दुर्भाग्यपूर्ण है और बड़ी लापरवाही है।