//

अपने घरौंदे को बचाने के लिए धरने पर बैठे 126 परिवार

उज्जैन। विनोद मिल की चाल के रहवासियों ने विधायक पारस जैन के निवास का घेराव कर दिया। जिसके बाद अपने आशियाने बचाने के लिए लड़ाई लड़ रहे 126 परिवार के सदस्यों को धरने से हटाने में प्रशासन को पसीना आ गया।
विनोद मिल की चाल में रहने वाले रहवासियों ने रविवार सुबह विधायक पारस जैन के निवास का घेराव कर दिया। रहवासियों के मकान तोड़े जाना है, जिसको लेकर वह आशियाने बचाने की एक माह से लड़ाई लड़ रहे हैं। रहवासियों ने उच्च न्यायालय से लेकर कई जनप्रतिनिधियों से गुहार लगाई लेकिन उन्हें आश्वासन ही मिला है। विनोद मिल की भूमि शासन द्वारा लीज पर दी गई थी, मिल बंद होने के बाद कई मजदूरों ने भूमि पर अपने मकान बना लिये थे। वर्षों से मकान में रह रहे रहवासी पिछले एक माह से अपने आशियानों के टूटने को लेकर चिंतित हैं। उच्च न्यायालय ने आशियानों को तोड़कर मलबा और भूमि बेचकर मिल मजदूरों को पैसा देने के आदेश जारी किए हैं, जिसको लेकर चाल में रहने वाले 126 परिवारों के 1 हजार से अधिक सदस्य अपने आशियानों को बचाने के लिए धरना प्रदर्शन और आंदोलन कर रहे हैं। रहवासियों ने भाजपा विधायक पारस जैन के निवास का घेराव कर दिया और धरना देकर बैठ गए।
विधायक जैन ने सभी परिवारों को आश्वासन दिया लेकिन परिवार नहीं माने और धरने पर बैठे रहे। धरना ना खत्म होता देख विधायक घर से रवाना हो गए।
पारस जैन के घर धरने की खबर सून कर जिला प्रशासन भी मौके पर पहुंचा जिसके बाद आस्वाशन के बाद धरना खत्म हो सका।